Antervasna Stories

पड़ोसन आंटी को रात भर चोदा – Padosan Aunti Ki Chudai Sex Story Hindi

हाय दोस्तों कैसे हैं आप लोग यह कहानी हमें पिंटू ने भेजी है वह बताते हैं कि उन्होंने अपने पड़ोस में एक 42 वर्ष की पड़ोसन आंटी को रात भर चोदा तसल्ली से और रात भर उनके साथ मनमर्जी का संभोग किया और उस आंटी ने भी उसका पूरा साथ दिया तो दोस्तों जानते हैं उसकी कहानी के बारे में। (Hindi Antarvasna Sex Story, Antervasna Kahani, chudai ki kahani, Sex Story in Hindi, Padosan Aunti ki Chudai)

 दोस्तों मेरा नाम पिंटू है और मैं अपने पड़ोस में रहने वाली आंटी की चुदाई की कहानी आपको बताऊंगा जिसे सुनकर आप को भी मजा आएगा दोस्तों मेरी उम्र लगभग 28 वर्ष की है मेरी उम्र लगभग 28 वर्ष की है और मैं तलाकशुदा हूं क्योंकि मेरी बीवी का चक्कर किसी और के साथ चल रहा था तो इसलिए मेरा तलाक हो गया पर मेरे घरवाले मेरी दूसरी शादी की तैयारी कर रहे हैं।

मेरे घर के बराबर में एक आंटी रहती है जिनके पति अक्सर विदेश की यात्रा पर जाते रहते हैं और वह एक एक महीना तक घर नहीं आते और आंटी अकेला ही रहती है तो अक्सर में उनके घर पर चला जाया करता हूं और उनके हाल-चाल पूछ लेता हूं और उनका घर मेरे घर से बिल्कुल मिला हुआ है दीवार भी एक ही है हम दोनों के घर की अगर हथौड़े से दीवार को फोड़ दें तो उनके कमरे में ही निकले जाकर।

तो दोस्तों एक बार में उन आंटी के घर गया उन्होंने मेरे लिए ब्रेड सैंडविच बनाई और मैंने उन्हें खा लिया फिर आंटी मुझसे पूछने लगी बेटा आपको यह कैसा लगा मैंने बोला आंटी आप ने बनाया है तो अच्छे ही थे मैंने बोला आंटी आप मेरे लिए रोज ऐसे पकवान बना दिया करें मुझे बहुत अच्छा लगता है उसने बोला बेटा कोई बात नहीं आप कभी भी मेरे घर आ जाए मैं आपके लिए बना दिया करूंगी मैं भी उनके घर अक्सर ऐसी चला जाया करता था और वह रोजाना मेरे लिए बढ़िया बढ़िया डिश बनाया करती थी मैं खा लिया करता था और उनकी तारीफ कर दिया करता था वह भी खुश हो जाया करती थी कभी-कभी मैं भी उन्हें अपने घर बुला लिया करता था।

फिर एक दिन उनके पति को फोन आया और विदेश यात्रा के लिए चले गए बिजनेस के सिलसिले में आंटी ने बोला बेटा तुम्हारे अंकल तो 40 दिन के लिए अमेरिका जा रहे हैं तो तुम आ जाया करना जिससे मेरा भी मन लगा रहा करेगा मैंने बोला आंटी आप टेंशन मत लो मैं आ जाया करूंगा यह मेरा भी घर है अब से। आंटी ने मुस्कुराया और बोला तुम कितने अच्छे हो मैंने भी बोला आंटी आप भी बहुत अच्छे हो। वह मुस्कुराते हुए अंदर चली गई और मैं वहां से आ गया।

मैं आंटी के घर अगले दिन गया और आंटी ने मेरे लिए एक बहुत ही अच्छी डिश बनाई थी मैंने वह खायी आंटी ने मुझे बोला बेटा आज रात आप यहीं सो जाना मैं कल रात सोई थी अकेले पर मुझे बहुत डर लगा मैंने बोला मैं तो सो जाऊंगा पर आपको कोई एतराज तो नहीं है। उन्होंने बोला बेटा मजबूरी है बताओ मैं क्या करूं मुझको जब डर लगता है। तो फिर मैं क्या कर सकती हू। तुम्हें  सोना ही पड़ेगा मैंने बोला आंटी कोई बात नहीं है। फिर उनके साथ सो गया।

 रात के तकरीबन 12:30 बज रहे थे और आंटी मेरे लिए दूध लेकर आई और उसमें उन्होंने केसर डाला हुआ था और थोड़ी सी शिलाजीत और मुझसे बोली बेटा सर्दियों में यह बहुत अच्छा होता है मैंने बोला कोई बात नहीं आंटी दे दो मैं पी लूंगा मैंने फिर उसको पी लिया जैसे ही दोस्तों मैंने उसको पिया मेरा लंड एकदम से सख्त हो गया और मुझे मानो ऐसा लग रहा था कि कोई मेरा लंड दबा रहा है।हां दोस्तों दूध में उन्होंने जो मिलाया था उससे मुझे बहुत मजा आ रहा था मुझे सेक्स का मजा आ रहा था दोस्तों मैं गर्म हो रहा था और आंटी ने भी वही चीज अपने लिए भी बनाई थी और उसको उन्होंने भी पिया था। अब हम दोनों सोने ही जा रहे थे तो आंटी ने मुझसे पूछा कि बेटा कैसा लग रहा है इसे‌ पीकर मैंने बोला कि आपने मेरे लिए बहुत ही अच्छी चीज बनाई थी धन्यवाद फिर उन्होंने मुझे बोला कि बेटा यह चीज मैं अपने पति को देती थी जिनसे वह मुझे संतुष्ट करते थे।

मैंने बोला आंटी यह आप क्या बोल रही है संतुष्ट करते थे क्या संतुष्ट करते थे उन्होंने बोला बेटा आप 28 साल के हो आपको भी बताने की जरूरत है क्या फिर मैंने उनसे बोला कि आंटी अच्छा आप उस बारे में बात कर रही है जैसे ही उन्होंने बोला हां वैसे मैंने बोला ठीक है हम दोनों एक साथ संभोग कर लेंगे पर आपको कोई दिक्कत तो नहीं है उन्होंने बोला बेटा नहीं कोई दिक्कत नहीं है तुम्हारे अंकल तो 40 दिन बाद ही आएंगे और अक्सर तो मेरे घर भी आते रहते हो तो क्या दिक्कत है फिर तुम आ जाया करो और हम कभी भी सेक्स कर लिया करेंगे मैं बोला आंटी फिर तो कोई दिक्कत नहीं यह तो बहुत अच्छी बात है मैं और आप कभी भी सेक्स कर लिया करेंगे।

रात के तकरीबन बातचीत करते करते 1 बज गया और अब हम एक साथ एक ही बेड पर सोने लगे दोस्तों आंटी का शरीर एकदम भाभियों जैसा है मानो अंकल ने उनके साथ ज्यादा सेक्स ना किया हो और उनके बच्चे तो है ही नहीं सिर्फ एक लड़का है। वह भी विदेश में ही रहता है दोस्तों अब हम एक साथ सोने ही जा रहे थे आंटी ने गाउन पहना हुआ था और जिसमें से उनकी चूचियां बिल्कुल साफ दिखाई दे रही थी मोटी मोटी चूची और सख्त चूचियां उभरी हुई और कसी हुई चूचियां थी उनकी जैसे ही वह लेटने लगी मैंने अपना हाथ उनकी छाती पर रख दिया।

अब क्या था दोस्त मैंने अपना हाथ उनकी छाती पर रख दिया और उनसे बोला आंटी कोई दिक्कत तो नहीं है मैं फिर पूछ रहा हूं उन्होंने बोला नहीं बेटा सेक्स की तो सब औरतो को जरूरत पड़ती है तुमको भी पड़ती होगी और जब से तुम्हारी पत्नी घर छोड़कर गई है तुम्हें बहुत ही अजीब लगता होगा मैंने बोला हां आंटी सेक्स तो मिलता ही नहीं और आपको भी जबसे आपके पति छोड़ कर गए हैं और आपका जीवन भी ऐसा ही हो गया हम दोनों ने अपना दुख जताते हुए एक-दूसरे को बाहों में भर लिया।

अब बाहों में हम एक दूसरे की थे और मैंने आंटी को गले पर किस किया और उनको अपने होठों से चूसने लगा जैसे आंटी को अति मजा आ रहा था फिर मैंने बोला आंटी अब आप मेरे गले को चूसो। मैं लेट गया आंटी ने मेरे दोनों हाथ पकड़े और मेरे गले को चूसा और उस पर थोड़ा सा काटा फिर उन्होंने होठों से मेरे होठों को छूआ आंटी ने अपनी चूची निकाली और मेरे मुंह में रख दी मैंने बोला आई लव यू उन्होंने बोला बेटा अपना लंड मेरे मुंह में डाल दे मैंने अपना लंड निकाला और उनके मुंह में डाल दिया लंड डालते ही मुझे बहुत मजा आ रहा था उनका मुंह बहुत गर्म था जो मेरे लंड पर गर्मी दे रहा था मैंने अपने लंड को उनके गले तक पहुंचाया और वहां से चिकना थूक निकाला जिसे उनकी चूत मारने में मुझे कोई दिक्कत ना हो।

 आंटी की एक बार को तो सांस भी रुक गई थी जब मैंने उनके गले में लंड डाला वह बोल रही थी वह बेटा तुमने तुम मुझे सातवें आसमान पर पहुंचा दिया मैंने बोला आंटी अब तुम अपना गाउन उतार लो मैंने उनका गाउन उतार दिया और वह अंदर कच्छी पहन रही थी। अपनी चुचियों पर उन्होंने ब्रा पहनी थी मैंने ब्रा को खींचकर तोड़ दिया आंटी बोली बेटा तुम तो बहुत तेज हो रहे हो। मैंने बोला नहीं बस अब आप देखती जाओ। मैंने कच्छी हटाई और चूत को चाटने शुरू कर दिया  चूत को खोला और उसमें धीरे से अपना लंड डाला और पहले ही धक्के में अंदर तक डाल दिया और उनके ऊपर लेट गया। उनके दोनों हाथ पकड़ लिए।

 अब मैंने उनके दोनों हाथ पकड़े हुए थे और उनको गले के नीचे किस कर रहा था वह भी मेरा पूरा साथ दे रही थी अब मैंने अपना लंड उनकी चूत के अंदर तक डाल दिया था उन्होंने पैरों को मेरे ऊपर लाकर उनको आपस में बांध रखा था और उनको मेरे चूतड़ भी मार कर मुझे सहारा दे रही थी अब मैंने भी जोर जोर से धक्के मारने शुरू किये। जैसे ही मैं जोर जोर से धक्के मार रहा था तो वहां ऊपर आंटी का मुंह देखने लायक था जब मैं देखा तो मुझे एहसास हुआ कि इनको कितनी जरूरत है सेक्स की मैंने उनकी आंखों में आंखें डाल ली और उनके होंठों को चूसना शुरू कर दिया और उन्होंने मुझे बोला वाह राजा वाह चोदो आज मुझे फाड़ दे मेरी चूत मैंने बोला क्या बात है ऐसे ही करती रहो।

अब मैं उनकी चूत मार रहा था और वह उसमें मेरा पूरा साथ दे रही थी मैंने उनको बोला कि आंटी क्या मैं बाहर निकाल दूं या आपके अंदर वीर्य डाल दू तो उन्होंने बोला कि बेटा हां तुम अंदर ही वीर्य डाल दो क्योंकि मुझे तभी मजा आता है मैंने बोला कोई बात नहीं आंटी आप जैसा बोलोगी वैसा ही करूंगा मैं मैंने उनके अंदर ही डाल दिया और उन्होंने मुझे बोला बेटा अब तुम मेरी चूत में उंगली डालो और उसको जोर-जोर से हिलाओ मैंने उनकी चूत में अपनी उंगली डाली और अपना लंड उनके मुंह में डाल दिया आप हम 69 की पोजीशन में थे और हमें बहुत ही तेजी से उनकी चूत में उंगली डालकर हिला रहा था जिससे उनकी चूत में से हल्का हल्का पानी आने लगा मैंने और तेज हिलाना शुरू कर दिया जिससे उनकी चूत में से एक बहुत लंबी धार निकली मैंने देखा कि वह धार बहुत लंबी थी और उसमें से बहुत सारा पानी निकला मैंने उसका सारा पानी पिया।

अब हम बिल्कुल नंगे थे और दोनों सेक्स से संतुष्ट हो गए थे और दोस्तों सेक्स से कभी इंसान संतुष्ट नहीं हो सकता हम एक घंटा बाद फिर गरम हो गए दोनों और हमने पूरी रात एक दूसरे के साथ ऐसे ही सेक्स किया मैंने उनको कभी गस्ती बनाकर चोदा तो कभी रंडी अब हम कभी भी एक साथ सेक्स कर लेते हैं मैं उनके घर चला जाता हूं और उनकी गांड मारता हूं वह खाना बना रही होती है तो मैं उनका पेटीकोट उठाकर अपना लंड डाल देता हूं वह मुझे कभी नहीं रोकती हम ऐसे ही चुदाई करते हैं मैं उनके साथ कभी भी संबंध बना लेता हूं और रात रात भर तक उनको चोदता रहता हूं उनको भी सेक्स का बड़ा आनंद आता है और हम दोनों रोज चरमसुख पाते हैं और एक दूसरे को संतुष्ट करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *